विश्वास की टूटी आस, नहीं जाएंगे राज्यसभा

कयासों के एक लंबे सिलसिले के बाद आम आदमी पार्टी ने राज्यसभा के लिए अपने तीनों उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है.
पार्टी ने इसके लिए संजय सिंह, नारायण दास गुप्ता और सुशील गुप्ता का नाम तय किया है.
दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका ऐलान किया.
दिल्ली में पार्टी के पास 70 में से 67 सीटें हैं, इसलिए तीनों उम्मीदवारों का चुना जाना तय है.
विश्वास को नहीं मिली राज्यसभा की सीट
अटकलों को सही साबित करते हुए पार्टी ने अपने संस्थापक सदस्यों में से एक कुमार विश्वास को राज्यसभा न भेजने का फैसला किया है.
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मनीष सिसोदिया से एक पत्रकार ने पूछा कि इतनी चर्चाओं के बीच किस आधार पर कुमार विश्वास को राज्यसभा न भेजने का फैसला किया गया तो उन्होंने कहा, "चर्चा तो आप लोग कर रहे थे. आप बताएं कि किस आधार पर चर्चा कर रहे थे?"
फ़ैसले के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कुमार विश्वास ने कहा कि "मैं बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं इन दोनों क्रांतिकारियों को जिनको चुनकर, रामलीला मैदान की लड़ाई का प्रतिफल और निष्कर्ष नवनीत बनाकर सर्वोच्च सदन में भेजा गया है, जहां अटल जी और इंदिरा जी जैसे महनीय लोगों की आवाज़ गूंजी है. मैं अरविंद को और पार्टी के उन लोगों को बधाई देता हूं जिन्होंने इन्हें चुना है."
ऐसी सुगबुगाहटें हैं कि इसके बाद कुमार विश्वास के समर्थक पार्टी से नाराज़गी जता सकते हैं.

कुमार के समर्थकों ने किया था हंगामा

कुमार के समर्थकों ने कुछ दिन पहले इसी मसले पर पार्टी दफ़्तर में हंगामा किया था.
इसके बाद 28 दिसंबर को विश्वास ने ट्वीट भी किया था, ''मैंने आप सबसे सदा कहा है पहले देश, फिर दल, फिर व्यक्ति, आम आदमी पार्टी मुख्यालय पर जमा कार्यकर्ताओं से निवेदन है कि स्वराज, बैक टू बेसिक, पारदर्शिता के मुद्दों के लिए संघर्ष करें, मेरे हित-अहित के लिए नहीं. स्मरण रखिए अभिमन्यु के वध में भी उसकी विजय है.''
इस बीच ख़बरें आईं कि आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चाहते थे कि किसी बाहरी व्यक्ति को उच्च सदन में भेजे.
इसके लिए पार्टी की तरफ से कई लोगों के नामों पर चर्चा भी की गई. जिसमें भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, पूर्व चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर से लेकर इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति तक के नाम शामिल रहे.
वहीं आप विधायक अल्का लांबा ने किसी महिला को भेजे जाने की मांग करते हुए पूर्व बैंकर मीरा सान्याल का समर्थन किया था.
इन तमाम नामों के बीच अचानक दो नाम चर्चाओं में आए, दिल्ली के व्यवसायी सुशील गुप्ता और चार्टर्ड अकाउंटेंट नवीन गुप्ता.
राज्यसभा में दिल्ली की तीन सीटें हैं जिसके के लिए 16 जनवरी को चुनाव होने हैं. नामांकन भरने की अंतिम तारीख 5 जनवरी है.

Popular posts from this blog

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप: न्यूज़ीलैंड की दमदार जीत, फ़ाइनल में भारत को 8 विकेट से हराया

Tokyo Olympics 2020: मीराबाई चानू ने सिल्‍वर जीत रचा इतिहास, वेटलिफ्टिंग में दिलाया भारत को टोक्‍यो का पहला पदक

सीबीएसई बोर्ड की 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं की परीक्षा टाली गई