Posts

सीबीएसई बोर्ड की 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं की परीक्षा टाली गई

Image
  कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए शिक्षा मंत्रालय ने कक्षा सीबीएसई की 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने का फ़ैसला किया है. शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सोशल मीडिया पर जानकारी दी है कि 10वीं के नतीजे इंटरनल एसेसमेंट यानी बोर्ड के बनाए ऑबजेक्टिव क्राइटेरिया के आधार पर किए जाएंगे.  वहीं 12वीं की परीक्षा के लिए को फिलहाल टाल दिया गया है. 12वीं की परीक्षा कराने को लकर बाद में फ़ैसला किया जाएगा.  मंत्रालय का कहना है कि इसके लिए एक जून को एक बार फिर स्थिति की समीक्षा की जाएगी. सीबीएसई की परीक्षाएं 4 मई से 14 जून को होने वाली थीं. छोड़िए Twitter पोस्ट, 1 पोस्ट Twitter समाप्त, 1

गाजियाबाद हादसा:श्मशान में छत गिरने से 21 की मौत; जिसका अंतिम संस्कार था, उसके बेटे की भी मलबे में दबकर जान गई

Image
उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में रविवार को बड़ा हादसा हो गया। यहां मुरादनगर के श्मशान में अंतिम संस्कार के दौरान गैलरी की छत गिरने से कई लोग दब गए। इनमें 21 की मौत हो गई, 24 घायल हैं। ये सभी बारिश से बचने के लिए छत के नीचे खड़े थे। जिस शख्स का दाह संस्कार चल रहा था, हादसे में उनके एक बेटे की भी मौत हुई है। ढाई महीने पहले ही बनी थी गैलरी बताया जाता है कि श्मशान घाट पर मुरादनगर के फल कारोबारी जयराम का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। जयराम का 65 साल की उम्र में निधन हो गया था। अंतिम संस्कार के दौरान सभी लोग गेट से सटी गैलरी में खड़े थे। इसी दौरान यह हादसा हो गया। ढाई माह पहले ही यहां गैलरी बनाई गई थी। लोगों का आरोप है कि गैलरी बनाने में घटिया मटेरियल का इस्तेमाल हुआ था। मौके पर मौजूद जयराम के पोते देवेंद्र ने बताया कि उसके दादा का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। बाकी लोग दूर खड़े होकर देख रहे थे। इसी दौरान छत गिर गई। इससे वहां खड़े सभी लोग दब गए। देवेंद्र ने बताया कि हादसे में उनके चाचा की भी मौत हो गई है। एक चचेरा भाई मलबे के नीचे दबा हुआ है। हादसे में उनके पिता भी घायल हो गए। प्रधानमंत्री मोदी न

सूर्यास्त के बाद धरती से दिखेगा अंतरिक्ष का अद्भुत नजारा

Image
  बृहस्पति और शनि ग्रह आज सोमवार को इतने करीब होंगे कि दोनों के बीच दूरी महज 0.1 डिग्री रह जाएगी. वैज्ञानिकों के मुताबिक इन्हें नंगी आँखों से भी देखा जा सकता है और दूरबीन या टेलीस्कोप से भी. ये खगोलीय घटना 17 जुलाई 1623 के बाद हो रही है. इसके बाद ये नजारा 15 मार्च 2080 को दिखाई देगा. इसके अलावा आज साल का सबसे छोटा दिन है. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का कहना है कि हमारे सौरमंडल में दो बड़े ग्रहों का नजदीक आना दुर्लभ नहीं है. यूँ तो बृहस्पति ग्रह अपने पड़ोसी शनि ग्रह के पास से हर 20 साल पर गुजरता है, लेकिन इसका इतने नजदीक आना ख़ास है. वैज्ञानिकों का कहना है कि दोनों ग्रहों के बीच उनके नज़रिए से सिर्फ 0.1 डिग्री की दूरी रह जाएगी, हालाँकि तब भी ये दूरी करोड़ों किलोमीटर की होगी.  यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैम्ब्रिज के इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोनॉमी में डॉक्टर क्रोफॉर्ड ने बीबीसी को बताया, “मौसम बहुत अच्छा नहीं लग रहा है इसलिए ये एक क़ीमती मौका है.” अगर मौसम की स्थिति अनुकूल रहती है तो ये आसानी से सूर्यास्त के बाद दुनिया भर में देखा जा सकता है. कहाँ और कब दिखेगा इस घटना का सबसे बेहतरीन नज़ारा सोमवार रात

किसान आंदोलन: MSP पर माँग मान क्यों नहीं लेती मोदी सरकार? जानिए क्या है वजहें

Image
  भारत की राजधानी दिल्ली के बॉर्डर पर किसानों के धरना प्रदर्शन का सोमवार को पाँचवा दिन है. पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश से दिल्ली की तरफ़ कूच कर रहे किसान हाल ही केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीन कृषि क़ानूनों का विरोध कर रहे हैं. अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के मुताबिक़ उनकी अहम माँगों में से एक है, "सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से कम कीमत पर ख़रीद को अपराध घोषित करे और एमएसपी पर सरकारी ख़रीद लागू रहे." एमएसपी पर ख़ुद प्रधानमंत्री ट्वीट कर कह चुके हैं, "मैं पहले भी कहा चुका हूँ और एक बार फिर कहता हूँ, MSP की व्यवस्था जारी रहेगी, सरकारी ख़रीद जारी रहेगी. हम यहां अपने किसानों की सेवा के लिए हैं. हम अन्नदाताओं की सहायता के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे और उनकी आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन सुनिश्चित करेंगे." उनका ये ट्वीट 20 सितंबर 2020 का है. छोड़िए Twitter पोस्ट, 1 पोस्ट Twitter समाप्त, 1 छोड़िए Twitter पोस्ट, 2 पोस्ट Twitter समाप्त, 2 लेकिन ये बात सरकार बिल में लिख कर देने को तैयार नहीं है. सरकार की दलील है कि इसके पहले के क़ानूनों में भी लिखित में ये

बाइडन को सत्ता सौंपने के लिए आख़िरकार तैयार हुए डोनाल्ड ट्रंप

Image
  अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप ने मान लिया है कि नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को सत्ता सौंपने की औपचारिक प्रक्रिया शुरू हो जानी चाहिए. ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है कि सत्ता हस्तांतरण की निगरानी करने वाली अहम फ़ेडरल एजेंसी जीएसए को वो 'चीज़ें करनी चाहिए जो ज़रूरी हैं'. हालांकि उन्होंने अब भी अपनी लड़ाई जारी रखने की बात कही है. दूसरी तरफ़, जनरल सर्विस ऐडमिनिस्ट्रेशन यानी जीएसए ने जो बाइडन को 'विजेता' के तौर पर स्वीकार कर लिया है. ये घटनाक्रम ऐसे समय हुआ है जब मिशिगन राज्य में जो बाइडन की जीत की आधिकारिक पुष्टि कर दी गई थी. इस पुष्टि से ट्रंप के उस अभियान को गहरा झटका लगा था जिसमें वो अमेरिका के चुनावी नतीजों को चुनौती दे रहे हैं. जो बाइडन के समर्थकों ने सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू होने का स्वागत किया है. जो बाइडन अब 20 जनवरी को शपथ लेने की तैयारी कर रहे हैं. हालांकि ट्रंप के कैंपेन का अब भी कहना है कि वो मिशिगन के चुनावी नतीजों को चुनौती देंगे. हालांकि अब वक़्त धीरे-धीरे ख़त्म हो रहा है. 14 दिसंबर को अमेरिकी इलेक्टोरल कॉलेज बाइडन की जीत की पुष्टि कर देगा. ट्रंप ने क्या

सऊदी अरब ने खत्म किया कफाला सिस्टम, प्रवासी मजदूरों को नौकरी बदलने के लिए नहीं पड़ेगी किसी कफील की जरूरत

Image
  सऊदी अरब साम्राज्य श्रम से संबंधित प्रमुख सुधार ला रहा है। यह प्रवासियों या विदेशी श्रमिकों के लिए कफला प्रणाली (प्रायोजन) को समाप्त करने जा रहा है। प्रवासियों को अब सऊदी अरब के राज्य में नौकरी बदलने के लिए किसी कफील या प्रायोजक की अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी। घोषणा की गई है और परिवर्तन अगले सप्ताह की शुरुआत में शुरू होने और 2020 की पहली छमाही में लागू होने वाला है। कफला प्रणाली (प्रायोजन) को नियोक्ता और कर्मचारियों के बीच एक नए प्रकार के अनुबंध से बदल दिया जाएगा। 2021 में, सऊदी ने निजी क्षेत्र को बढ़ावा देने की भी योजना बनाई है, जहां विदेशी कर्मचारी या प्रवासी कफील या प्रायोजक के अधीन नहीं है, बल्कि नियोक्ता से सीधे अनुबंध में होगा। सऊदी अरब में कफाला प्रणाली का 7 दशकों से पालन किया जा रहा है और इसकी शोषण के कारण कई विदेशी श्रमिकों द्वारा आलोचना की गई है। वर्तमान में 10 मिलियन से अधिक विदेशी कर्मचारी कफ़ाला प्रणाली के तहत सऊदी अरब में रहते हैं, जिसके लिए उन्हें सऊदी नियोक्ता द्वारा प्रायोजित करने की आवश्यकता होती है और जब भी वे देश छोड़ना चाहते हैं, उन्हें एक निकास / पुनः प्रवेश वी

बेगुनाहों के ख़िलाफ़ इस्तेमाल हो रहा है गोहत्या क़ानूनः इलाहाबाद हाई कोर्ट

Image
  इंडियन एक्सप्रेस की एक   रिपोर्ट   के मुताबिक इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में गोहत्या क़ानून का इस्तेमाल बेगुनाहों के ख़िलाफ़ किया जा रहा है. हाई कोर्ट ने कहा है कि छोड़ दिए गए पशुओं की सुरक्षा के लिए क़दम उठाए जाने चाहिए और क़ानून का इस्तेमाल उसमें निहित भावना से होना चाहिए. अक्तूबर में गोहत्या क़ानून के तहत गिरफ़्तार किए गए एक अभियुक्त को ज़मानत देते हुए जस्टिस सिद्धार्थ ने कहा, "क़ानून का इस्तेमाल बेग़ुनाहों के ख़िलाफ़ किया जा रहा है. जहां भी मांस मिलता है उसे बिना फोरेंसिक लैब में टेस्ट कराए गाय का मांस बता दिया जाता है. अधिकतर मामलों में मांस को परीक्षण के लिए भेजा तक नहीं जाता. अभियुक्त उस अपराध के लिए जेल में रहते हैं जो हो सकता है हुआ ही ना हो." आदेश में कहा गया, "जब गायों को ज़ब्त किया हुआ दिखाया जाता है तो रिकवरी का कोई मेमो तैयार नहीं किया जाता और किसी को नहीं पता कि रिकवरी के बाद गायें कहां चली जाती हैं." उत्तर प्रदेश सरकार के डाटा के मुताबिक राज्य में राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून के तहत हुईं कुल 139 गिरफ़्तारियों में से आधी से ज़्यादा (76

कोविड पॉज़िटिव निकले मंत्री के संपर्क में आने के बाद भी बद्रीनाथ गईं उमा भारती, दो दिन बाद खुद हुईं कोरोना संक्रमित

Image
 पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहीं उमा भारती गुरुवार को बद्रीनाथ मंदिर के दर्शन करने गई थीं। अब वह कोरोना संक्रमित पायी गई हैं। बता दें कि बीते हफ्ते ही उमा भारती राज्य शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत के संपर्क में आयीं थी, जो कि बुधवार को कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। सूत्रों के अनुसार, उमा भारती को भी डॉक्टर्स ने सलाह दी थी कि वह एक कोरोना संक्रमित के संपर्क में आयी हैं, इसलिए यात्रा ना करें लेकिन उमा भारती ने डॉक्टर्स की सलाह को नजरअंदाज करते हुए ब्रद्रीनाथ मंदिर की यात्रा की। उमा भारती ने ट्वीट कर बताया था कि धन सिंह रावत के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्होंने और उनकी साथ बद्रीनाथ धाम गए सभी लोगों ने अपनी कोरोना जांच करायी थी, जिसमें सभी की रिपोर्ट निगेटिव आयी थी। उमा भारती ने बताया कि उनकी गाड़ी का ड्राइवर कोरोना पॉजिटिव पाया गया था और उसके टेस्ट के बाद जब उनका टेस्ट हुआ तो वह भी कोरोना पॉजिटिव पायी गईं।

कृषि विधेयकों का विरोधः अब एनडीए से भी अलग हुआ शिरोमणि अकाली दल

Image
  केंद्र सरकार के कृषि विधेयकों का विरोध कर रही शिरोमणि अकाली दल ने अब एनडीए से अलग होने का ऐलान किया है. 9 दिन पहले केंद्र सरकार में मंत्री हरसिमरत कौर ने भी पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. अकाली दल भाजपा की पुरानी सहयोगी पार्टी रही है और लंबे समय से एनडीए का हिस्सा थी. आज शिरोमणि अकाली दल की कोर समिति की बैठक में सर्वसम्मति से एनडीए से अलग होने का फ़ैसला लिया गया है. शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखबीर बादल ने एक ट्वीट में बताया है कि पार्टी एक अक्तूबर को पंजाब में बड़ा किसान मार्च करेगी और राष्ट्रपति के नाम राज्यपाल को ज्ञापन सौपेंगी. सुखबीर बादल ने एसएडी के एनडीए से अलग होने की जानकारी देते हुए कहा कि ये फ़ैसला पार्टी कोर समिति ने सर्वसम्मति से लिया है. बादल ने कहा, 'जब ये अध्यादेश कैबिनेट में लाए गए थे, तब भी हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय मंत्री के रूप में कई बार किसानों की भावनाओं के अनुसार बिलों को बदलने के लिए कहा था, लेकिन हमारी बात नहीं मानी गई.' वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री और कांग्रेस पार्टी के नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि बादल परिवार के पास एनडीए से अलग होने के अलावा औ