नहीं रहे सुपरकॉप केपीएस गिल

पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक केपीएस गिल का 82 साल के उम्र में निधन हो गया है.
परिवार के एक सदस्य ने उनके निधन के ख़बर की पुष्टि की है.
पंजाब में चरमपंथ को ख़त्म करने में उनकी बड़ी भूमिका रही है.
बीमार पड़ने पर उन्हें दिल्ली के गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी छवि एक 'सुपरकॉप' के तौर पर बनी हुई है.
केपीएस गिल को पंजाब में चरमपंथ को खत्म करने का श्रेय मिला वहीं मानवाधिकार संगठनों ने पुलिस के तौर-तरीकों पर गंभीर सवाल भी उठाए थे और फर्जी मुठभेड़ों के अनेक मामले न्यायालय में भी पहुँचे थे.
केपीएस गिल पंजाब में खालिस्तानी आंदोलन से सख़्ती से निपटे थे.
मई, 1988 में उन्होंने खालिस्तानी चरमपंथियों के ख़िलाफ़ ऑपरेशन ब्लैक थंडर की कमान संभाली थी. यह ऑपरेशन काफी कामयाब रहा था.
बाद में वो इंडियन डॉकी फेडरेशन के अध्यक्ष भी बने.
केपीएस गिल का पूरा नाम कुंवर पाल सिंह गिल था. वो दो बार पंजाब के डीजीपी रहें.
वो साल 1995 में पुलिस सेवा से सेवानिवृत हुए. उन्हें 1989 में पदम श्री का अवार्ड मिला था.
केपीएस गिल पर एक वरिष्ठ महिला आईएएस अधिकारी रूपन देओल बजाज ने यौन दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था.
17 साल बाद उन्हें इस मामले में दोषी ठहराया गया था.
मगर गिल की सज़ा कम कर दी गई, जुर्माना भी कम कर दिया गया और जेल भी नहीं भेजा गया.
रूपन देओल बजाज ने बीबीसी के साथ इस घटना और इंसाफ़ की लंबी लड़ाई के बारे में अपनी आपबीती साझा की थी.

Popular posts from this blog

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप: न्यूज़ीलैंड की दमदार जीत, फ़ाइनल में भारत को 8 विकेट से हराया

Tokyo Olympics 2020: मीराबाई चानू ने सिल्‍वर जीत रचा इतिहास, वेटलिफ्टिंग में दिलाया भारत को टोक्‍यो का पहला पदक

सीबीएसई बोर्ड की 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं की परीक्षा टाली गई