निशिकांत कामत का निधन, दृश्यम और मदारी जैसी फ़िल्मों का किया था निर्देशन

 बॉलीवुड निर्देशक निशिकांत कामत का सोमवार को हैदराबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया. वो 50 साल के थे.


अस्पताल में एक बयान जारी कर कहा है कि सोमवार दोपहर से उनकी स्थिति बिगड़ने लगी थी और शाम 4.24 को उनका देहांत हो गया.

बयान में अस्पताल ने कहा है, "बुख़ार और बेहद थकावट की शिकायत के बाद निशिकांत कामत को 31 जुलाई को असप्ताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें दो साल से लिवर सिरोसिस की शिकायत थी इस कारण उन्हें एंटीबायोटिक के साथ-साथ दूसरी दवाइयां देना शुरू किया गया था."

"उनकी सेहत में कुछ सुधार हुआ लेकिन धीरे-धीरे उनका लिवर और ख़राब होता गया और उनकी सेहत बिगड़ती चली गई. रविवार को उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगी और साथ ही उनका ब्लड प्रेशर भी कम होने लगा था. मल्टिपल ऑर्गन फेल्यर के कारण उनकी सेहत और बिगड़ी जिसके बाद उनकी मौत हो गई."

निशिकांत की मौत की सोशल मीडिया पर बॉलीवुड अभिनेता रितेश देशमुख ने दी. उन्होंने एक ट्वीट कर लिखा, "मेरे दोस्त मैं आपको मिस करूंगा."

निर्देशक निलमाधव पंडा ने लिखा, "दृश्यम, फोर्स, मदारी, लय भारी जैसी फ़िल्में बना कर निशिकांत ने फ़िल्म इंडस्ट्री में अपने लिए अलग जगह बनाई थी. आज हमने एक हीरा खो दिया."

अर्जुन रामपाल ने लिखा, "आज दुख की एक और ख़बर मिली. हमारे प्यारे मित्र निशिकांत कामत दूसरी दुनिया के सफर पर निकल गए हैं."

अजय देवगन ने लिखा, "निशिकांत से मेरा नाता केवल दृश्य फ़िल्म तक ही सीमित नहीं था. उनके साथ मेरे रिश्ते को मैंने हमेशा याद रखा है. वो समझदार और हमेशा हंसने वाले व्यक्ति थे."

अभिनेता शरद केलकर ने लिखा, "आप एक निर्देशक से कहीं अधिक थे, आप मेरे मार्गदर्शक थे. आपको हमेशा मिस करूंगा."

निशिकांत के साथ पहले काम कर चुकी सोहा अली ख़ान ने लिखा, "निशिकांत कामत की मौत की ख़बर से सदमें में हूं. मैंने बारह साल पहले 'मुंबई मेरी जान' फ़िल्म में उनके निर्देशन में काम किया था, जो मेरी पहली फ़िल्म थी. उनके साथ काम करना ऐसा अनुभव है जिसकी मैं हमेशा कद्र करती हूं. उनके परिजनों को मेरा सांत्वना."

सवेरे से थी सोशल मीडिया पर हलचल

रविवार सवेरे से ही निशिकांत कामत के मौत की ख़बरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की जा रही थीं.

Popular posts from this blog

राजद नेता रघुवंश नहीं रहे:लालू के करीबी रघुवंश प्रसाद का 74 की उम्र में दिल्ली एम्स में निधन; 3 दिन पहले पार्टी से इस्तीफा दिया था, पर लालू ने स्वीकार नहीं किया

बाइडन को सत्ता सौंपने के लिए आख़िरकार तैयार हुए डोनाल्ड ट्रंप

सऊदी अरब ने खत्म किया कफाला सिस्टम, प्रवासी मजदूरों को नौकरी बदलने के लिए नहीं पड़ेगी किसी कफील की जरूरत