JNU छात्रसंघ: लेफ्ट ने किया क्लीन स्वीप, गीता बनीं अध्यक्ष

दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में एक बार फिर लेफ्ट की गूंज सुनाई दी है। विश्वविद्यालय में हुए स्टूडेंट यूनियन के चुनाव के नतीजे शनिवार देर रात जारी कर दिए गए। चारों सीटों पर यूनाइटेड लेफ्ट पैनल (आईसा, एसएफआई और डीएसएफ) ने बाजी मारी है। छात्रसंघ अध्यक्ष की पोस्ट के लिए मैदान में उतरीं लेफ्ट पैनल की गीता कुमारी ने एबीवीपी की निधि त्रिपाठी को 464 वोटों से हरा दिया। गीता को जहां 1506 वोट मिले, वहीं 1042 वोटों के साथ निधि दूसरे नंबर पर रहीं। इन चुनावों के लिए शुक्रवार को 58.69% वोटिंग हुई थी। कुल 7904 वोटर्स में से 4639 ने वोट डाले थे।

वाइस प्रेजिडेंट के चुनाव में लेफ्ट पैनल की सिमोन जोया खान 1876 वोटों के साथ पहले नंबर पर रहीं और एबीवीपी के दुर्गेश कुमार 1028 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर रहे। जनरल सेक्रेटरी पद पर भी लेफ्ट के दुग्गीराला श्रीकृष्णा ने 2082 वोटों से जीत हासिल की। कैंडिडेट निकुंज मकवाना के 975 वोटों के साथ एबीवीपी यहां भी दूसरे नंबर पर रही। जॉइंट सेक्रेटरी के चुनाव में भी 1755 वोटों के साथ लेफ्ट के सुभांशु सिंह पहले नंबर पर और 920 वोटों के साथ एबीवीपी के पंकज केशरी दूसरे नंबर पर रहे।

चारों पदों पर दूसरे नंबर पर आने वाली एबीवीपी ने साइंस स्कूल और स्पेशल सेंटर्स में इस बार भी अच्छा प्रदर्शन करते हुए चारों सीटों पर सबसे ज्यादा वोट बटोरे। वहीं स्कूल ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज, स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज और स्कूल ऑफ लैंग्वेज, लिटरेचर ऐंड कल्चरल स्टडीज में लेफ्ट ने बाजी मारी। इस तरह इन चारों स्कूल्स में कुल मिलाकर यूनाइटेड लेफ्ट पैनल के कैंडिडेट्स के वोट ही सबसे ज्यादा रहे।

प्रेजिडेंट के चुनाव में बापसा (बिरसा-अंबेडकर-फूले स्टूडेंट एसोसिएशन) की शबाना अली 935 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहीं। वाइस प्रेजिडेंट के चुनाव में भी तीसरे नंबर पर बापसा कैंडिडेट सुबोध कुंवर रहे जिन्हें 910 वोट मिले। जनरल सेक्रेटरी के चुनाव में 854 वोटों के साथ बापसा के ही करम बिद्यानाथ तीसरे नंबर पर रहे और जॉइंट सेक्रेटरी के चुनाव में भी बापसा के कैंडिडेट विनोद कुमार ने 860 वोटों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया।

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'