राम रहीम को दो साध्वियों से रेप मामले में सुनाई 10-10 साल की सजा, रहम की भीख मांगते रहे डेरा चीफ

न्यू अपडेट: दो साध्वियों से रेप केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को अदालत ने 10-10 साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। बेहद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रोहतक की सुनारिया जेल में लगी अदालत में सोमवार को जस्टिस जगदीप सिंह ने सजा का ऐलान किया। यानी राम रहीम को कुल 20 साल की सजा हुई है। एक सजा पूरी होने के बाद उन्हें दूसरी सजा काटनी होगी। सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने भी इसकी पुष्टि की है। कोर्ट ने इसके अलावा दोनों केस में अलग-अलग 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। दोनों पीड़ितों को 14-14 लाख रुपये दिए जाएंगे।राम रहीम के वकील एसके नरवाना ने बताया कि कुल सजा 20 साल दी गई है, लेकिन धारा 376 और 506 की सजा एकसाथ चलेंगी। 

साध्वी के साथ रेप के दोषी डेरा सच्चा सौदा के चीफ गुरमीत राम रहीम को सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को 10 वर्ष की सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। सजा सुनते ही राम रहीम रोने लगे और जमीन पर बैठ गए। करोड़ों श्रद्धालुओं के 'पिताजी' कहे जाने वाले डेरा चीफ जज से माफी की भीख मांगते दिखे। 

सीबीआई के विशेष जज जगदीप सिंह ने जैसे ही अपना फैसला पढ़ना शुरू किया राम रहीम बार-बार 7 साल, 7 साल बोलने लगे। यानी रेप केस में वह अधिकतम 10 साल की बजाए 7 साल की सजा की मांग कर रहे थे। जज जगदीप ने राम रहीम की किसी बात पर कोई ध्यान नहीं दिया और उन्हें 10 साल की सजा सुना दी। पूरी सुनवाई के दौरान आंखों में आंसू भरे राम रहीम सजा के बाद जमीन पर बैठकर रोने लगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक जब पुलिसकर्मी उन्हें कस्टडी में लेने आए तो वह कहीं नहीं जाने की जिद करने लगे। 
राम रहीम को 376, 511 और 506 धारा के तहत सजा सुनाई गई है। डेरा चीफ को 25 अगस्त को ही दोषी ठहरा दिया था, लेकिन उन्हें सजा आज सुनाई गई। सुरक्षा को देखते हुए रोहतक जेल में ही कोर्ट बनाया गया था। विशेष जज जगदीप हेलिकॉप्टर से यहां पहुंचे थे। किसी भी प्रकार की हिंसा को रोकने के लिए हरियाणा प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए थे। जेल से करीब दो किलोमीटर दूर ही लोगों को रोक दिया गया था। किसी प्रकार की हिंसा करने वालों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए थे।
इससे पहले रोहतक की सुनारिया जेल में लगी अदालत में मौजूद गुरमीत सिंह के तीन वकीलों ने रहम की अपील करते हुए कहा, 'राम रहीम सिंह सामाजिक कार्यकर्ता हैं। वह लोगों के कल्याण के लिए काम करते रहे हैं। इसलिए उनके प्रति सजा में नरमी बरती जानी चाहिए।' इससे पहले सीबीआई के वकीलों ने संक्षिप्त शब्दों में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि गुरमीत सिंह को इस मामले में अधिक से अधिक सजा दी जानी चाहिए। बता दें कि राम रहीम को साध्वी रेप मामले में 15 साल की लंबी प्रक्रिया के बाद दोषी करार दिया गया था। बेहद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रोहतक की सुनारिया जेल में लगी अदालत में जस्टिस जगदीप सिंह ने सजा का ऐलान किया। अदालत ने सीबीआई और बचाव पक्ष के वकीलों को अपनी दलीलें पेश करने के लिए 10-10 मिनट का वक्त दिया था। सजा सुनाए जाने से पहले बाबा राम रहीम की आंखों में आंसू थे और हाथ जोड़कर वह अदालत से रहम की मांग कर रहे थे। उनके वकील ने कहा कि राम रहीम समाजसेवी हैं इसलिए उनके साथ नरमी बरती जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि राम रहीम ने लोगों की भलाई के लिए काम किया है। सफाई अभियान और रक्त दान जैसे सामाजिक कार्य किए हैं। उधर सीबीआई ने राम रहीम के लिए अधिकतम सजा यानी की आजीवन कारावास की मांग की थी। जांच एजेंसी की दलील थी कि यह सिर्फ रेप केस नहीं, बल्कि भरोसा तोड़ते हुए लगातार यौन शोषण किए जाने का मामला है। कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद राम रहीम के लिए 10 साल कारावास की सजा का ऐलान किया। जाहिर है कि राम रहीम के वकीलों की कोई भी दलील अदालत में नहीं चल पाई।
इसके पहले 25 अगस्त को सिरसा की विशेष सीबीआई अदालत ने डेरा चीफ गुरमीत राम रहीम को साध्वी रेप केस में दोषी करार दिया था। इसके बाद डेरा समर्थकों ने हरियाणा, पंजाब और राजधानी दिल्ली तक में बवाल किया था। खास तौर पर पंचकूला और सिरसा में पत्थरबाजी, आगजनी और तोड़फोड़ की कई घटनाओं को अंजाम दिया गया था। इस हिंसा में 30 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी।
फैसला सुनाए जाने से पहले हिंसा की आशंका के मद्देनजर पूरे रोहतक को सील कर दिया गया था। पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों की 23 कंपनियों ने रोहतक के अंदर और बाहर तैनात की गईं और सुनारिया जेल के ईदगिर्द बहुस्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया गया था।
हरियाणा में आज सभी सरकारी दफ्तर बंद रहे। रोहतक, पंचकूला और कैथल में सभी स्कूल और कॉलेजों को बंद रखा गया। रोहतक में कम से कम 9 हजार पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान तैनात किए गए हैं। इसके अलावा सेना को भी स्टैंड बाय में रखा गया है। रोहतक में 100 से ज्यादा डेरा अनुयायियों को रविवार को ही पुलिस हिरासत में लिया गया था। पंजाब सरकार ने भी एहतियातन 29 अगस्त तक के लिए मोबाइल इंटरनेट, एमएमएस और डोंगल सर्विस को निलंबित कर दिया है।

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'