राष्ट्रपति चुनाव: मीरा कुमार ने भरा पर्चा, सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह रहे मौजूद

विपक्ष की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार ने बुधवार (28 जून) को पर्चा भरा। जब वह संसद पहुंची तो सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, शरद पंवार उनके साथ मौजूद थे। इससे पहले वह सुबह राजघाट गई थीं।

इससे पहले मीरा कुमार ने हैरानी जताते हुए कहा था कि आखिर, राष्ट्रपति चुनाव में जाति को क्यों मुद्दा बनाया जा रहा है। उन्होंने निराशा जताते हुए कहा कि पहली बार देश के सर्वोच्च कार्यालय के लिए जाति को मुद्दा बनाया जा रहा है।  पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने एक बार फिर कहा था कि वह सामाजिक न्याय के मूल्यों, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, समावेशीकरण तथा जाति व्यवस्था के उन्मूलन के लिए लड़ेंगी।
भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की तरह मीरा कुमार भी चार सेट में परचा भरने की तैयारी कर रही हैं। मीरा कुमार के लिए कांग्रेस ने विपक्षी दलों से जो समर्थन मांगा था, वह लिखित रूप से मिल गया है। 17 दलों के समर्थन का पत्र उनके लिए कांग्रेस को मिला है। नामांकन भरने के बाद वह 30 जून को महात्मा गांधी के गुजरात स्थित साबरमती आश्रम से अपना प्रचार अभियान शुरू करेंगी।
कौन हैं मीरा कुमार: वह बड़े दलित नेता और भूतपूर्व रक्षा मंत्री जगजीवन राम की बेटी हैं। वो विदेश सेवा की अधिकारी भी रह चुकी हैं। बिहार के सासाराम से जीतने वालीं मीरा कुमार 15वीं लोकसभा की अध्यक्ष रह चुकी हैं। उन्हें देश की पहली महिला स्पीकर होने का गौरव हासिल है। उनका जन्म बिहार के भोजपुर जिले में हुआ है। मीरा कॉन्वेन्ट से पढ़ीं हैं। उनकी शिक्षा देहरादून, जयपुर और दिल्ली में हुई है। उन्होंने दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज और मिरांडा हाउस से एमए और एलएलबी किया है। साल 1970 में उनका चयन भारतीय विदेश सेवा के लिए हुआ। इसके बाद उन्होंने कई देशों में अपनी सेवाएं दी। वो यूपीए-1 की मनमोहन सिंह सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रह चुकी हैं। वो 8वीं, 11वीं, 12वीं, 14वीं और 15वीं लोकसभा की सदस्य रह चुकी हैं।
बता दें कि राष्ट्रपति पद के लिए 17 जुलाई को होने वाले चुनाव के लिये नामांकन दाखिल करने की बुधवार को अंतिम तारीख है। मंगलवार तक एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद सहित 64 नामांकन पत्र भरे जा चुके थे। सूत्रों के अनुसार, 17 विपक्षी दलों में से प्रत्येक के नेता को मीरा कुमार के नाम का प्रस्ताव या अनुमोदन करने का अवसर मिला है। वहीं, नामांकन भरने से पहले मीरा कुमार ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी और समता स्थल जाकर अपने पिता बाबू जगजीवन राम को श्रद्धांजलि दी।

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'