किसान आंदोलनों को लेकर नीतीश का मोदी पर वार, यूपी-बिहार में अभी चुनाव कराने की दी चुनौती


बिहार सीएम नीतीश कुमार ने देश के अलग-अलग हिस्सों में चल रहे किसान आंदोलनों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नीतीश कुमार ने किसानों के लिए राष्ट्रीय नीति नहीं बनाने को लेकर मोदी सरकार की खिंचाई की। राष्ट्रपिता गांधी पर की गई टिप्प्णी के संबंध में नीतीश ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर भी निशाना साधा। नीतीश के निशाने पर कृषि मंत्री राधामोहन सिंह भी रहे जिनके गलत योग आसन का सीएम ने मजाक उड़ाया। नीतीश ने साथ ही पीएम मोदी को बिहार और यूपी में अभी चुनाव कराने की चुनौती भी दी। 
सोमवार को काफी दिनों बाद नीतीश ने पीएम मोदी के खिलाफ सीधा हमला बोला। नीतीश ने कहा कि 2014 के चुनाव से पहले बीजेपी ने किसानों के मुद्दे पर तमाम वादे किए थे। नीतीश ने कहा, 'तब मोदीजी बीजेपी के पीएम उम्मीदवार थे। उन्होंने किसानों को लेकर कई वादे किए थे। ये बातें बीजेपी के घोषणापत्र में शामिल की गई थीं।' नीतीश कुमार ने कहा कि आज किसानों को उनकी उपज की उचित कीमत नहीं मिल रही है। 
बिहार सीएम ने किसानों के संकट के संबंध में राष्ट्रीय स्तर पर नीति नहीं बनाने के लिए मोदी सरकार की आलोचना की। नीतीश ने कहा कि सबसे पहले तो किसानों के लिए उत्पादन मूल्य का निर्धारण होना चाहिए। उन्होंने मंदसौर घटना और महाराष्ट्र के किसान आंदोलनों के संदर्भ में कहा कि कोई समस्या खड़ी होने पर लोन माफ कर देना जैसे उपायों से फौरी तौर पर तो राहत मिल जाएगी लेकिन कृषि संकट दूर नहीं होगा। 

नीतीश ने किसानों की आमदनी दोगुनी करने के मोदी सरकार के वादे का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि आज किसान की आमदनी ग्रुप डी के कर्मचारी से भी कम है। उनके लिए राष्ट्रीय स्तर पर सोच विकसित करनी होगी। नीतीश कुमार ने कहा, 'किसान संकट का इससे बड़ा प्रमाण क्या होगा कि मराठा, जाट, पाटीदार जैसे समूह जो कभी कृषि क्षेत्र में काफी सशक्त थे आज इतने पिछड़ गए कि आरक्षण की मांग के लिए मजबूर हो गए। विभिन्न प्रांतों में लोग आज आरक्षण की मांग कर रहे हैं तो यह वाकई में किसान संकट है।'
गांधी पर टिप्पणी को लेकर शाह पर साधा निशाना
बिहार सीएम ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर टिप्पणी को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पर भी निशाना साधा। हालांकि नीतीश ने शाह का नाम नहीं लिया लेकिन उन्होंने कहा कि देश में संवेदनहीनता और इनटॉलरेंस के बढ़ते माहौल से गांधी के विचार ही मुक्ति दिलाएंगे। नीतीश ने कहा कि वह तो इस काम में जुटे हुए हैं कि जन-जन तक गांधी के संदेश को पहुंचाएं। इस क्रम में उन्होंने चंपारण सत्याग्रह के 100 साल पूरे होने पर बिहार सरकार के विशेष आयोजनों का भी जिक्र किया। 

नीतीश ने दी चुनौती, जब चाहे करा लो चुना
नीतीश कुमार ने कहा कि पिछले दिनों किसी ने बिहार में फिर से चुनाव कराने को कहा। बिहार सीएम बोले, 'मैं बिहार में कल ही चुनाव कराने को तैयार हूं लेकिन यूपी में भी चुनाव कराइए। यूपी और बिहार के बीजेपी-एनडीए के सांसद-विधायक इस्तीफा दें। अगर हिम्मत है तो ऐसा करें, बिहार में कल ही चुनाव करा दूंगा।'
कृषि मंत्री के योग को लेकर कसा तंज
हाल में मंदसौर में किसानों पर हुई हिंसा के दौरान रामदेव के साथ योग करते केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह की तस्वीर सामने आई थी। नीतीश ने पत्रकारों के सवाल पर इसे लेकर भी तंज कसा। नीतीश ने कहा कि लोग कुछ का कुछ किए जा रहे हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि कृषि मंत्री को योग करने ही नहीं आ रहा था। उन्होंने कहा, 'ऐसी स्थिति में (किसानों पर हिंसा) जब तस्वीर को देखकर गुस्सा आना चाहिए मुझे हंसी आ रही थी। मैं अकेले में खूब हंस रहा था।'

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'