नहीं रहे क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फ़िदेल कास्त्रो


क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फ़िदेल कास्त्रो का 90 साल की उम्र में निधन हो गया है.
क्यूबा के सरकारी टीवी ने क्यूबा के राष्ट्रपति और फ़िदेल कास्त्रो के छोटे भाई राउल कास्त्रो के हवाले से इस ख़बर की पुष्टि की है.
क्यूबा में कम्युनिस्ट क्रांति के जनक कहे जाने वाले फ़िदेल कास्त्रो की मृत्यु स्थानीय वक्त के मुताबिक़ रात साढ़े दस बजे हुई.
उनका अंतिम संस्कार शनिवार को किया जाएगा.
2008 में एक गंभीर बीमारी की वजह से उन्होंने पद छोड़कर अपने छोटे भाई राउल कास्त्रो को सत्ता सौंप दी थी.
साल 1959 में क्यूबा के तानाशाह फुलखेंशियो बतीस्ता को सत्ता से हटाकर फ़िदेल कास्त्रो ने क्यूबा में कम्युनिस्ट सत्ता कायम की.
इसके बाद फ़िदेल कास्त्रो को करीब चार दशक तक अमरीका विरोधी के तौर पर देखा गया.
उनके जीवन से जुड़ी कुछ महत्तवपूर्ण बातें
साल 1926: क्यूबा के ओरियेंटे प्रांत में जन्म हुआ.
साल 1953: क्यूबा के तत्कालीन शासक फुलखेंशियो बतीस्ता के ख़िलाफ़ असफल विद्रोह के बाद क़ैद किए गए.
साल 1955: सत्ता से समझौते के बाद जेल से रिहा किए गए.
साल 1956: चे ग्वेरा ने सरकार के ख़िलाफ़ गोरिल्ला अभियान छेड़ा.
साल 1959: कास्त्रो ने बतीस्ता को चुनाव में हराया. क्यूबा के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली.
साल 1962: तत्कालीन सोवियत संघ को क्यूबा में न्यूक्लियर मिसाइल की तैनाती की अनुमति दी
साल 1976: क्यूबा की नेशनल असेंबली ने उन्हें राष्ट्रपति चुना
साल 1992: क्यूबा शरणार्थियों को लेकर अमरीका के साथ समझौता किया
साल 2008: सेहत ख़राब होने की वजह से राष्ट्रपति पद छोड़ा
(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'