मिशन पीएसएलवी सी-35: 8 ख़ास बातें


सोमवार सुबह भारत का पीएसएलवी सी-35 अपने अब तक के सबसे बड़े मिशन पर निकल गया है. जानिए इसके बारे में 8 प्रमुख बातें:
  • भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो ने एक रॉकेट के ज़रिए सात उपग्रह या सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेज दिए है.
  • अंतरिक्ष में भारत अपने और विदेशी सैटेलाइट या उपग्रह भेजता रहा है जिससे होने वाली कुल कमाई अब 12 करोड़ डॉलर पहुंच गई है.
  • मिशन ख़ास इसलिए है क्योंकि ज़्यादातर देश एक ही ऑरबिट या कक्षा में अपने उपग्रह पहुंचाते हैं जबकि इस बार भारत ने दो कक्षाओं में ऐसा किया है. यूरोपीय स्पेस एजेंसी के वेगा रॉकेट ने कुछ दिन पहले ऐसा मिशन सफलतापूर्वक पूरा किया था.
  • दो घंटे से भी ज़्यादा समय वाली पीएसएलवी की ये उड़ान अब तक की सबसे लंबी बताई जा रही है.
  • पीएसएलवी सी-35 अपने साथ जिन सात उपग्रहों को ले गया है उनका वज़न 675 किलोग्राम बताया गया है.
  • पीएसएलवी के साथ गए विदेशी उपग्रहों में अमरीका का पाथफाइंडर-1, कनाडा का एनएलएस-19, अल्जीरिया के अलसैट-1बी, अलसैट-2बी और अलसैट-1एन शामिल हैं.
  • पीएसएलवी के साथ गए 'प्रथम उपग्रह' का निर्माण आईआईटी-मुंबई में हुआ है और इसका वज़न मात्र 10 किलोग्राम है.
  • पीएसएलवी के साथ बंगलुरू विश्वविद्यालय में तैयार हुआ 'पीसैट उपग्रह' भी है जिसे रिमोट सेंसिंग के लिए भेजा गया है और इसका वज़न मात्र 5.25 किलोग्राम है. 

(आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'