मुंबई से गायब हुए 26 पाकिस्तानी नागरिक, तलाश में जुटी पुलिस


शहर के जुहू इलाके में पिछले दस सालों से रह रहे 26 पाकिस्तानी नागरिकों के अचानक गायब हो जाने से प्रशासन सकते में हैं। पुलिस की अलग-अलग एजेंसियां इन 26 लोगों को खोजने में दिन-रात जुटी हुई हैं। खुफिया विभाग से जुड़े सूत्रों के अनुसार, ये पाकिस्तानी नागरिक पिछले दो या तीन दिनों के अंदर ही लापता हुए हैं, जिसके बाद से प्रशासन इनकी तलाश में जुट गया है। जुहू समेत शहर के अन्य इलाकों में स्थित विभिन्न होटलों, लॉजों और संदिग्ध ठिकानों की तलाश लेकर पुलिस इनके बारे में पता लगाने की कोशिश कर रही है। 
हालांकि इस घटना के बारे में अभी मुंबई पुलिस का कोई भी अधिकारी मीडिया से खुलकर बात नहीं कर रहा है, लेकिन सूत्र बताते हैं कि महाराष्ट्र एटीएस (ऐंटी टेररिस्ट स्क्वॉड) को इन 26 लोगों को खोजने की जिम्मेदारी दी गई है। बताया जा रहा है कि सी-फॉर्म भरने के दौरान इनमें से किसी ने भी अपने बारे में यह सही जानकारी नहीं दी थी कि वे कहां ठहरेंगे और किससे मिलने के लिए यहां आए थे। भारत आने वाले सभी पाकिस्तानी नागरिकों को सी-फॉर्म भरना होता है। 26 पाकिस्तानी नागरिकों की तलाश में तेजी तब आई जब सुरक्षा एजेंसियां सी-फॉर्म में भरी गई जानकारी के आधार पर उनका पता लगाने में नाकाम रहीं। सी-फॉर्म में पाकिस्तानी नागरिक की तरफ से बताया जाता है कि वह किस होटल या किस जगह पर ठहरेगा। इसके अलावा रुकने की अवधि, पासपोर्ट की कॉपी, वीजा और रेजिडेंशल परमिट की जानकारी भी देने होती है।
महाराष्ट्र एटीएस ने मुंबई के सभी होटलों और लॉज में उन्हें तलाशने के लिए टीमें भेजी हैं। सुरक्षा एजेंसियां ज्यादा अलर्ट इसलिए भी हुई हैं क्योंकि पिछले दिनों खबर आई थी कि इंडियन मुजाहिदीन के कुछ आतंकियों ने मुंबई आकर यहां के हालात को करीब से देखा है। हालांकि इंडियन मुजाहिदीन लगभग खत्म हो चुका है, पर उसके संस्थापक रियाज शाहबंदरी उर्फ रिजाज भटकल और उसके बड़े भाई इकबाल अभी पाकिस्तान में ISI के संरक्षण में हैं।

Popular posts from this blog

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में धमाका, CRPF के 42 जवान मारे गए

CBI बनाम ममता बनर्जी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा राजीव कुमार को सीबीआई गिरफ्तार नहीं कर सकती!

हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद येदियुरप्पा बने 'कर्नाटक के किंग'